Sunday, 21 February 2016

विकास की योजनाएं


आज विकास की योजनाएं ग्रामीण क्षेत्रों के लिए बनाई तो जाती हैं लेकिन उनका लाभ ग्रामीणों तक नहीं पहुंचता है। देश में विकास आज भी शहरों तक ही सीमित है। उच्च शिक्षा और स्वास्थ्य सेवाएं ग्रामीण क्षेत्रों क्षेत्रों में नदारत है। जब तक इनकी अच्छी व्यवस्था गांवों में नहीं होती तब तक गांवों से शहरों की तरफ पलायन नहीं रुकेगा।
ग्रामीण इलाकों में कृषि अभी भी रोज़गार का साधन है लेकिन सरकार कुछ चंद लोगों को खुश करने के लिए कृषि योग्य भूमि का अधिग्रहण कर उद्योग स्थापित करने में लगी है। इससे किसानों को एक मुश्त पैसे तो मिल जाते हैं लेकिन भविष्य की रोजीरोटी छिन जाती है।
कृषि प्रधान देश में किसान आत्महत्या कर रहे हैं लेकिन सरकार कुछ भी नहीं कर पा रही। आज किसी भी क्षेत्र विशेष के लिए उच्च शिक्षा और स्वास्थ्य सुविधा अति आवश्यक है। इससे ही रोज़गार के अवसर बढ़ेंगे और शहरों की तरफ पलायन रुक सकेगा।


(यह पत्र सरिता फरवरी (द्वितीय) 2007 में प्रकाशित हुआ।)