Thursday, 14 January 2016

खर्च का हिसाब मांगें


एमसीडी द्वारा नालों की सफाई पर खर्च किये गए 25 करोड़ रूपए का पूरा हिसाब मांगा जाना चाहिए और धांधली मिलने पर दोषी अधिकारी कर्मचारियों को दण्डित किया जाना चाहिए। पिछले सप्ताह हुई बारिश के बाद रात 8 बजे तक मॉडल टाउन स्थित छत्रसाल स्टेडियम के आगे सड़क की पटरी तक पानी में डूबी हुई थी। कार से एक मिनट का सफ़र तय करने में 20 मिनट लग गए। सड़क देख कर ऐसा लग रहा था मानो बाढ़ आ गई हो।


(यह पत्र नवभारत टाइम्स में 3 जुलाई 2006 को प्रकाशित हुआ।)