Monday, 10 August 2015

कानून की पकड़


सरित प्रवाह के अंतर्गत संपादकीय टिप्पणी 'कानून की पकड़ में अबू सलेम' एकदम उचित है कि यदि सरकार ठान ले तो सबकुछ कर सकती है।
सरकार के लिए असंभव कुछ भी नहीं है। इस का ताज़ा उदाहरण अबू सलेम को पुर्तगाल से भारत लाने का मामला है। यदि आज राजनीति का अपराधीकरण समाप्त हो जाए तो भारत से अपराध ही समाप्त हो जाए और नागरिक सुख चैन व निडर हो कर रह सकते हैं।


(यह पत्र सरिता जनवरी (द्वितीय) 2006 में प्रकाशित हुआ।)