Monday, 13 April 2015

प्लेटफ़ॉर्म टिकट

रेलवे ने प्लेटफ़ॉर्म टिकट तीन रुपये से पांच रुपये का करने का फैसला लिया है। सवाल सिर्फ दो रुपये का नहीं है, रेल विभाग की मानसिकता का है। रेल मंत्री ने रेल बजट के दौरान वाहवाही लूटने के चक्कर में इस बढ़ोतरी का जिक्र नहीं किया। जब जनता बजट को भूल गई, तब अचानक से यह कदम उठा लिया। रेल मंत्री शायद यह भूल गए हैं कि आज महानगर की भागदौड़ और व्यस्त्ता में शायद ही कोई तहरीफ़ के लिए रेलवे स्टेशन जाता हो। जनता सिर्फ ज़रुरत के समय ही वहां जाती है। रेल मंत्री को शायद भिखारी और सामान बेचने वाले नज़र नहीं आते, जो बिना टिकट लिए रेल में सफ़र करते हैं।


(यह पत्र नवभारत टाइम्स में 24 मई 2005 को प्रकाशित हुआ।)