Saturday, 26 July 2014

पाक से ज्यादा उम्मीद न रखे

खेल और राजनीति में जमीन-आसमान का फर्क है। क्रिकेट की पिच पर भारतीय टीम ने विजय पा ली और विश्वविख्यात पाक की तेज गेंदबाजी के छक्के छुडा दिए। हार के बावजूद पाक क्रिकेट प्रेमियों ने जबर्दस्त खेल भावना का परिचय दिया है। लेकिन इसका अर्थ यह नही है कि मुशर्रफ अपनी पैंतरेबाजी से हटकर साधारण क्रिकेट प्रेमी की तरह भारत के शांति प्रयासों का दिल खोलकर स्वागत करेगें। मुशर्रफ का यह रवैया जाहिर करता है कि क्रिकेट और शांति की पिच में दिन-रात का अंतर है। पाक से इससे अधिक उम्मीद रखना गलत है। दोनों देशों को खेलों के अलावा व्यापार ही नजदीक ला सकता है।


(यह पत्र 11 अप्रैल 2004 को नवभारत टाइम्स में प्रकाशित हुआ।)