Saturday, 7 June 2014

बुराई को समाप्त करने की पहल

लेख कैट प्रश्नपत्र लीकजनवरी (प्रथम) 2004 वस्तुत:  देश के घनी और उच्च मध्यवर्ग की कुंठा को दर्शाता है। वास्तव में परीक्षाओं के प्रश्नपत्र और दाखिले के लिए 5 से 10 लाख रूपए खर्च करना किसी गरीब या मध्यवर्ग की औकात में नही है। योग्य छात्र हाथ मलते रह जाते हैं और धन का प्रभाव काम कर जाता है। इसलिए इस बुराई को समाप्त करने के लिए उच्च वर्ग को ही पहल करनी पडेगी कि योग्य छात्रों का भविष्य बिगाडने का अर्थ है भविष्य के साथ खिलवाड। केवल सामाजिक चेतना ही इस का एकमात्र उपाय है।



(यह पत्र सरिता फरवरी (द्वितीय) 2004 में प्रकाशित हुआ।)